motor-vehicle-act-challan
Commercial vehicles NEWS Quick Read

पंजाब ने बदलाव के साथ लागू किया मोटर व्हीकल एक्ट, देना होगा कम जुर्माना

देश में सितंबर 2019 से लागू नए मोटर व्हीकल एक्ट में शुरुआत से हीं अलग-अलग राज्यों की नाराजगी सामने आ रही थी। ओडिशा सहित कुछ राज्यों ने इसे अपनाने से साफ मना कर दिया था, तो गुजरात सहित कुछ राज्यों ने इसे कम जुर्माने के साथ लागू किया था।

लेकिन अब पंजाब ने लोगों पर मेहरबान होते हुए इसमें कई बदलाव किए हैं, और इन बदलावों के साथ मोटर व्हीकल एक्ट को यहां लागू किया गया है।

किन बदलावों के साथ पंजाब ने लागू किया मोटर व्हीकल एक्ट…

सबसे बड़े बदलाव की बात करें तो पंजाब सरकार ने शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों पर लगने वाले भारी जुर्माने के सेक्शन 185 को हटा दिया है, और इसके स्थान पर शारीरिक और मानसिक रुप से अक्षम स्थिति में गाड़ी चलाने पर जुर्माने यानि की सेक्शन 186 को लागू किया गया है।

क्या फर्क है दोनों में?

सेक्शन 185 के तहत पहली बार शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों पर 10,000 रुपये के जुर्माने के साथ-साथ 6 महीने जेल का प्रावधान था, जिसे सेक्शन 186 के तहत 1,000 रुपये कर दिया गया है, और जेल के प्रावधान को खत्म कर दिया गया है।

दूसरी बार शराब पीकर गाड़ी चलाने पर पहले जो जुर्माना 20,000 का था, जिसे 2,000 कर दिया गया है।

इसके अलावा रेडलाइट जंप करने, गलत पार्किंग करने के दोषी के ऊपर जहां केंद्र सरकार ने 5000 रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान किया था, उसे पंजाब सरकार ने 500 रुपये कर दिया है।

18 साल से कम आयु के बच्चों द्वारा गाड़ी चलाए जाने पर 25,000 का जुर्माना साथ ही अभिभावकों को तीस साल की सजा के प्रावधान को पंजाब सरकार ने सिरे से खारिज करते हुए केवल 1,000 रुपये के जुर्माने तक सीमित कर दिया है।

ड्राइविंग के दौरान मोबाइल इस्तेमाल करने के जुर्माने को घटा कर पंजाब सरकार ने 5,000 रुपये से घटाकर 2,000 कर दिया है।

गौरतलब है कि केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री ने पहले हीं कहा था कि भारी जुर्माना लगाने के पीछे उनका मकसद राजस्व जमा करना नहीं बल्कि लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। जबकि पंजाब सरकार की सोच बिल्कुल अलग है, और फिलहाल वो अपने लोगों को खुश करने में कामयाब हो गई है।

हालांकि पंजाब सरकार की परिवहन मंत्री रजिया सुल्ताना ने कहा कि शराब पीकर गाड़ी चलाने के प्रावधान को सख्ती से लागू किया जाएगा।

सभी कमर्शियल वाहनों के बारे में जानने के लिए BabaTrucks पर क्लिक करें।