fastag-india
Commercial vehicles NEWS Quick Read

फास्टैग को लेकर दी सरकार ने बड़ी राहत, कॉमर्शियल व्हीकल वालों को रखा गया इससे बाहर

फास्टैग अनिवार्यता की समयसीमा में अब 3 दिन से भी कम का वक्त बचा है, लेकिन इससे पहले भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण यानि एनएचएआई ने वाहन चालकों को एक बड़ी खुशखबरी दी है।

RTO ऑफिस से सम्बंधित सभी जानकारी पाने के लिए क्लिक करें!

दरअसल एनएचएआई ने फास्टैग में मिनिमम बैलेंस रखने की अनिवार्यता को पूरी तरह से खत्म कर दिया है, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है।

वर्तमान में मिनिमम बैलेंस 150-200 रुपये रखने की अनिवार्यता थी जोकि इसे जारी करने वाले बैंकों ने तय किया था। लेकिन अब एनएचएआई ने साफ किया है कि सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई अतिरिक्त राशि रखने के अनिवार्यता वाहन चालकों को नहीं होगी।

हालांकि वर्तमान में एनएचएआई ने यह छूट केवल कार, जीप या वैन को दी है। फिलहाल कामर्शियल वाहनों को इस छूट से बाहर रखा गया है और उन्हें मिनिमम बैलेंस पहले की तरह रखना होगा। लेकिन उम्मीद है कि जल्द इन वाहनों को भी मिनिमम बैलेंस रखने की अनिवार्यता से छूट दे दी जाएगी।

वर्तमान में मिनिमम बैलेंस न होने पर वाहन चालकों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, क्योंकि फास्टैग वॉलेट में पर्याप्त पैसे होने के बावजूद टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं दी जाती है। इसके चलते टोल प्लाजा पर वाहन चलाकों और टोल कर्मचारियों के बीच आए दिन झड़प की खबरें आती रहती है।

लेकिन एनएचएआई द्वारा दिए गए इस छूट के बाद अब वाहन चालक कम बैलेंस या निगेटिव बैलेंस होने पर भी टोल प्लाजा से बिना किसी रुकावट के गुजर सकेंगे।

आपको बता दें कि एनएचएआई ने 2019 में फास्टैग की शुरुआत की थी जिसकी अनिवार्यता की समयसीमा दिसंबर 2020 तय की गई थी। लेकिन लोगों की उदासीनता के कारण बाद में इसे बढ़ा कर 15 फरवरी 2021 कर दिया गया था। समयसीमा में 3 दिन से भी कम का वक्त बचा है ऐसे में ये राहत लोगों को फास्टैग अपनाने के लिए प्रेरित करेगी।

वर्तमान में 2.54 करोड़ फास्टैग जारी किए जा चुके हैं, जिससे टोल प्लाजा कलेक्शन में भी काफी वृद्धि हुई है। इस समय फास्टैग के माध्यम से डेली टोल कलेक्शन 89 करोड़ रुपए हो रही है जो पहले की तुलना में काफी बेहतर है। भविष्य में उम्मीद है कि ये कलेक्शन और भी बढ़ेगा।

अब गाड़ी की RC सम्बंधित सभी जानकारी पाएं!