truck-india
Commercial vehicles NEWS

सड़क परिवहन मंत्रालय ने टायर सुरक्षा को लेकर मोटर व्हीकल के नियमों में किया बड़ा बदलाव

सड़क और परिवहन मंत्रालय ने टायर सुरक्षा ग्लास और एक्सटर्नल प्रोजेक्शन के लिए केंद्रीय मोटर व्हीकल के नियमों में संशोधन किया है। जिसके तहत अतिरिक्त टायर, सेफ्टी ग्लास और एक्सटर्नल प्रोजेक्शन जैसे मानको में कई तरह के बदलाव किए गए हैं।

भारत के ट्रक ड्राइवर्स इस मुश्किल समय में आपकी सहायता मांग रहे हैं। आज ही अपना योगदान दें: https://bit.ly/2RweeKH

नए नियम के अनुसार यदि किसी कंपनी द्वारा वाहन के साथ टायर प्रेशर मॉनिटीरिंग सिस्टम यानि टीपीएमएस और टायर मरम्मत किट दिया जाता है, तो अतिरिक्त टायर देने की आवश्यकता नहीं होगी। इस बदलाव को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार किया गया है, और सुरक्षा की दृष्ठि से यह एक बेहतरीन कदम साबित होगा।

इस बदलाव में भविष्य के इलेक्ट्रिक व्हीकल को भी ध्यान में रखा गया है, क्योंकि अतिरिक्त टायर न होने से बैटरी को रखने के लिए अतिरिक्त जगह मिल जाएगी, और इलेक्ट्रिक व्हीकल को ग्राहकों के लिए और अनुकूल बनाया जा सकेगा।

टीपीएमएस क्या है?

टीपीएमएस एक टायर प्रेशर मॉनिटीरिंग सिस्टम है, जो लगातार टायर के प्रेशर की निगरानी करता है, और उचित समय पर ड्राईवर को इसकी जानकारी उपलब्ध कराता है, और गाड़ी की दुर्घटना होने से बच जाती है।

इस नए नियम में सेफ्टी ग्लास को लेकर भी बदलाव किए गए हैं, जिसके तहत अब रेयर ग्लास का प्रकाश संचरण 70% और साइड विंडो का 50% अनिवार्य कर दिया गया है।

अब गाड़ी की RC सम्बंधित सभी जानकारी पाएं एक क्लिक से!