fastag-india
Commercial vehicles NEWS Quick Read

एनएचएआई ने जारी किया निर्देश फास्टैग स्कैन नहीं होने पर मुफ्त में कर सकेंगे यात्रा

आज के लिए डीजल और पेट्रोल की कीमत जानने के लिए क्लिक करें: babatrucks.com/fuel-price-index

भारतीय राष्ट्रीय राज्यमार्ग प्राधिकरण ने लोगों की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक निर्देश जारी किया है। यह निर्देश निश्चित रुप से लोगों को बिना रुके यात्रा करने की अनुमति देगा।

दरअसल एनएचएआई ने एक निर्देश जारी किया है कि यदि टोल प्लाजा पर फास्टैग स्कैन नहीं हो पाता है, तो वाहन चालक बिना टैक्स दिए जा सकता है।

एनएचएआई का यह निर्देश उन लाखों वाहन चालकों के लिए राहत की खबर है जो फास्टैग लागू होने के बाद यह शिकायत कर रहे थे कि तकनीकि खराबी के चलते फास्टैग स्कैन नहीं हो पा रहा है।

इसके अलावा एनएचएआई ने कहा है कि 15 जनवरी से फास्टैग को पूरी तरीके से लागू कर दिया जाएगा। इसका मतलब यह हुआ कि 15 जनवरी के बाद हर टोल प्लाजा पर हाइब्रिड टोल की संख्या घटकर केवल एक हो जाएगी।

इससे पहले 15 दिसंबर से अब तक टोल प्लाजा के केवल 75 प्रतिशत लेन को कैशलेस किया गया था, जबकि 25 प्रतिशत लेन को कैश लेन-देन के लिए छोड़ दिया गया था।

लेकिन 15 जनवरी के बाद यदि बिना फास्टैग स्टिकर वाला वाहन फास्टैग लेन में जाता है तो उनसे दोगुणा टोल वसूला जाएगा। एनएचएआई के आंकड़ों के अनुसार अब तक लगभग 1.10 करोड़ फास्टैग जारी किए जा चुके हैं, और रोजाना करीब एक लाख नए फास्टैग जारी किए जा रहे हैं।

सरकार की मानें तो फास्टैग की पहल बिल्कुल सही दिशा में आगे बढ़ रही, क्योंकि न केवल इससे लोगों का बहुमूल्य समय बच रहा है, बल्कि फास्टैग की अनिवार्यता से टोल संग्रह में 15 प्रतिशत बढ़ोतरी देखने को मिली है, जो सरकार के लिए एक शुभ संकेत है।

एनएचआई का औसत टोल संग्रह जो पहले 65-68 करोड़ रुपये हुआ करता था, वो अब फास्टैग के इस्तेमाल के बाद 80 करोड़ रुपये पहुंच गया है। आने वाले दिनों में इस आंकड़ें की और भी बढ़ने की उम्मीद है।

सभी कमर्शियल वाहनों के बारे में जानने के लिए BabaTrucks पर क्लिक करें।