ashok-leyland-abb-partnership
Commercial vehicles NEWS Ashok Leyland Quick Read

अशोक लेलैंड ने इलेक्ट्रिक बसों के लिए किया एबीबी से समझौता

आज के लिए डीजल और पेट्रोल की कीमत जानने के लिए क्लिक करें: babatrucks.com/fuel-price-index

2030 तक इलेक्ट्रिक वाहन अपनाने की भारत की मुहिम के तहत अशोक लेलैंड ने एक मजबूत कदम बढ़ा दिया है। कंपनी ने अपनी ई-मोबिलीटी सिस्टम को बढ़ावा देने के लिए एबीबी पॉवर प्रोडक्ट्स और सिस्टम इंडिया लिमिटेड से समझौता किया है।

इस समझौते के तहत एबीबी पॉवर ग्रिड का काम टीओएसए चार्जिंग सिस्टम की देख-रेख करना, उसका इंस्ट़लेशन करना और उसे फिर उसे चालू करना होगा। जबकि अशोक लेलैंड तकनीक के साथ-साथ इलेक्ट्रिक बसों के विनिर्माण और आपूर्ति का काम देखेगा। इतना ही नहीं यह समझौता भारत में इलेक्ट्रिक बसों के विकास को एक नई गति देगा, औऱ हम इस मामले में प्रतिस्पर्धा कर पाएंगे।

क्या है टीओएसए तकनीक

टीओएसए तकनीक एक फ्लैश चार्जिंग तकनीक है, जो बिना बसों के आवाजाही को प्रभावित किए चंद सेकेंड में 600-किलोवाट तक की बैटरी को पावर बूस्ट के साथ चार्ज कर सकती है।

इस तकनीक को चुनिंदा बस स्टॉप पर लगाया जाएगा। इस तकनीक की मदद से प्रति वर्ष 600,000 किलोमीटर की दूरी पर 1,000 टन कार्बन डाइऑक्साइड की बचत हो सकती है। इस तकनीक की मदद से डीजल वाहन की तुलना में परिचालन लागत में 30 प्रतिशत की कमी आ जाएगी, जिसका फायदा वाहन मालिकों के साथ-साथ यात्रियों को भी होगा।

इस समझौते के मौके पर एबीबी पॉवर प्रोडक्ट्स औऱ सिस्टम इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक एऩ वेणू ने कहा है कि इस तकनीक से लोगों को भविष्य में साफ, ईको फ्रेंडली वाहन देखने को मिलेंगे, जिससे कम से कम धूएं निकलेंगे। प्रदूषण कम करने की दिशा में भी अशोक लेलैंड का यह समझौता एक क्रांतिकारी कदम साबित होगा।

इस मौके पर अशोक लेलैंड के मुख्य तकनीकी अधिकारी एन श्रीनिवासन ने कहा कि इस समझौते के बाद हम घरेलू औऱ वैश्विक बाजारों में प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम हो जाएंगे। टीओएसए चार्जिंग का उपयोग कर हम इलेक्ट्रिक बसों के मामले में ज्यादा आत्मनिर्भर बन पाएंगे।

सभी कमर्शियल वाहनों के बारे में जानने के लिए BabaTrucks पर क्लिक करें।